समझ लीजिए आपने किसी जॉब साइट को तैयार किया है और यह साइट बहुत ही जानी मानी है | इस साइट पर दिन भर में हजारों युसर्स आकर आपके पोस्ट देखते हैं | यह पोस्ट देखते समय आप आपके साइट पर गूगल ऐडसेंस के ऐड डाल सकते हो जिन पर क्लिक करके आपको गूगल ऑटोमेटिक पैसा देता है | जब आपके वेबसाइट के विजिटर्स ज्यादा से ज्यादा क्लिक करते हैं वैसे वैसे गूगल आपको पैसे देता है | गूगल ऐडसेंस के द्वारा लाखों रुपए कमाना आसान नहीं होता है, कुछ महीनों तक आपको आपके साइट पर ज्यादा से ज्यादा काम करना होता है |
समझ लीजिए आपने किसी जॉब साइट को तैयार किया है और यह साइट बहुत ही जानी मानी है | इस साइट पर दिन भर में हजारों युसर्स आकर आपके पोस्ट देखते हैं | यह पोस्ट देखते समय आप आपके साइट पर गूगल ऐडसेंस के ऐड डाल सकते हो जिन पर क्लिक करके आपको गूगल ऑटोमेटिक पैसा देता है | जब आपके वेबसाइट के विजिटर्स ज्यादा से ज्यादा क्लिक करते हैं वैसे वैसे गूगल आपको पैसे देता है | गूगल ऐडसेंस के द्वारा लाखों रुपए कमाना आसान नहीं होता है, कुछ महीनों तक आपको आपके साइट पर ज्यादा से ज्यादा काम करना होता है |
क्या आप ऐसी दुनिया में काम करना चाहते हैं, जहां आप वो कर सकें जो वाकई आप करना चाहते हैं? आप अपने इन सपनों को पंख घर बैठे देना चाहते हैं और किसी ऑफिस या मार्केटिंग जैसे वर्कप्लेस पर नहीं जाना चाहते? शहरी भारत में करीब 15 मिलियन लोग अपने इस सपने को जी रहे हैं। यह जानकारी फ्रीलांसर इनकम्स अराउंड द वर्ल्ड रिपोर्ट 2018 में सामने आई है। ये लोग सेल्फप्रेन्योर्स है और ये लोग खुद के मालिकाना हक वाला अपना कारोबार कर रहे हैं। ये लोग तेजी से बढ़ रहे उस ग्रुप का हिस्सा हैं जो देश की इकॉनमी में अपना योगदान दे रहे हैं।
×